जो कोई समझ न सके वो बात है हम – Love Shayari for Dost

Love Shayari for Dost

जो कोई समझ न सके वो बात है हम,
जो ढल के नई सुबह लाये वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिस्ते बनाकर यूँ ही,
जो कभी न छूटे ऐसा साथ हैं हम.

जो कोई समझ न सके वो बात है हम - Love Shayari for Dost
जो कोई समझ न सके वो बात है हम – Love Shayari for Dost

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.